रविवार, 7 जुलाई 2013

फैसले की घड़ी




मनुष्य का जीवन फैसलों और निर्णयों पर आधारित है । ये निर्णय सामाजिक या व्यक्तिगत स्तर पर भिन्न हो सकते है । हर व्यक्ति के जीवन में ऐसे कई मोड़ आते है जब उसे दो या अधिक रास्तों में से किसी एक को चुनना पड़ता है । और बाद में उसका वही चुनाव उसके आगे के जीवन की दिशा और दशा को निर्धारित करता है । साथ ही उसका यह फैसला दुसरों को खासकर उसके ही अपने परिवार वालों की जिंदगी को भी काफी हद तक प्रभावित करता है ।

व्यक्ति के निर्णय लेने की क्षमता उसकी आत्मनिर्भरता का पैमाना होती है । अर्थात व्यक्ति का आत्मविश्वास और आत्मनिर्भरता इस बात पर निर्भर करती है कि वह व्यक्तिगत स्तर पर अच्छे फैसले लेने में कितना सक्षम है ?

सही निर्णय लेने से पहले आपको बिना किसी संकोच के स्वीकार करना होगा कि आप आज जहां पर है और जो भी,स्वयं की वजह से है । अत: अगर आप  अपनी वर्तमान परिस्थितियों को बदलना चाहते है तो पहले स्वयं को बदलना जरुरी है ।

एक अच्छा फैसला या निर्णय लेने के लिए जरुरी है कि आप उसमें अपने मत के साथ - साथ दुसरों के मत और सुझावों को भी शामिल करें । कुछ आधारभुत बातों मसलन उसका अपनी वर्तमान स्थिति , लगने वाले समय और पूंजी,  परिणाम और उसकी उपयोगिता,  मानव परिश्रम,  जोखिम आदि को केन्द्र में रखकर विचार करें । मेरी एक सलाह यह भी है कि अपने निर्णय लेते समय आप अपने माता-पिता और अन्य करीबियों के अनुभवों को भी शामिल करें ।

निर्णय लेते समय आने वाले जोखिम को लेकर परेशान होने की जरुरत नहीं है । हर तरह के काम में हमेशा बाधाओं और अड़चन की संभावना बराबर बनी रहती है । मसलन विद्दार्थियों के लिए Fail होने का,  राजनेता के लिए चुनाव हारने का,  डॉक्टर के लिए ट्रीटमेंट असफल होने का,  खिलाड़ी के लिए हारने का आदि कुछ जोखिम के रुप है । जरा सोचिए यदि कोई व्यक्ति नदी पार करना चाहता है और वह डुबने के डर से नदी में उतरता ही नहीं है तो क्या वह नदी पार कर पाएगा ?  नहीं ना । नदी पार करने के लिए जरुरी है कि वह नदी में उतरने का निर्णय लेकर जोखिम उठाये ।

इस तरह हम निर्णय लेते समय  कुछ बातों का ध्यान रख सकते है ।

=> निर्णय लेते समय असफलता के डर को मन से निकाल दें ।

=> छोटे से छोटे सुझाव को भी सुनें भले ही उस पर अमल करें या न करें आपकी मर्जी ।

=> सुने सब की पर करें मन की ।

=> गलती होने पर उसकी जिम्मेदारी भी स्वीकार करें ।

जरा ध्यान दें - निर्णय लेने का Risk करता है सफलता को Fix.

9 टिप्‍पणियां:

  1. सकारात्मकता बहुत जरुरी है, आपका ये लेख पढ़कर आज बहुत ताक़त मिली है , जो फैसले मैं नही ले पा रहा था, अब सकारात्मक होकर आगे बढूँगा, आपका बहुत आभार , कलम की ताक़त को सलाम,

    उत्तर देंहटाएं
  2. मनोविज्ञान पर आधारित आपका यह लेख प्रभावशाली है
    बहुत सुन्दर बात कही है ..." निर्णय लेने का Risk करता है सफलता को Fix."
    वाह संपूर्ण लेख का सार है यह !

    उत्तर देंहटाएं
  3. अपने मस्तिष्क की
    मांसपेशियों, स्नायुओं....
    और शरीर के प्रत्येक भाग को
    उसी विचार से ओत-प्रोत होने दें
    और.........
    दूसरे सब विचारों को अपने से दूर रखें।
    यही सफलता का मार्ग है
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक प्रभावशाली बेहतरीन लेख

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत प्रभावी ... निर्णय लेने के समय इन सब बातों को सोचना जरूरी है ...
    सहमत हूं आपकी बात से ...

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणीयां हमारे लिये महत्वपूर्ण है, आपको हमारा ये प्रयास कैसा लगा जरुर बताएं साथ में कोई शिकायत या सुझाव हो तो हमें अवगत कराएं।